ट्वीट करते रहिए


ट्वीट्स, ख्याति, और ट्रॉल्स
ट्विटर, एक आदत कहें या एप्प।
यह जगह उन शरणागत का शिविर है जो कि फेसबुक और अपने जीवन के कुछ वजहों से त्रस्त हैं।
जिन्हें अपनी बात कहने में झिझक होती है, उन्होंने खुल कर बिना डरे हुए यहाँ पर अपना दिल खोला।
दिक्कत तब आई जब लोगों ने इसको काफी गंभीरता से ले लिया।
वो भी क्यों ना भला, ख्याति किसको नहीं पसंद, दो पल की सही।
सब कोई अच्छे अच्छे ट्वीट करते हैं, वाहवाही बटोरते हैं, लेकिन जब कोई ट्रॉलिंग करता है तो फिर बुरा लगता है।
मैं पूछना चाहता हूँ क्यों?
फिर आप दिल से ट्वीट करते हैं... इतना जान लीजिये.. आपके इस बर्ताव से ट्रोल करने वाले को बढ़ावा मिलेगा।
ऐसे लोगो को जवाब देने की जरुरत ही नहीं, चुपचाप ब्लो और रिपोर्ट कीजिये।
अपने आपको अच्छा साबित करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए
क्या लगता है सब दूध के धुले हैं... नहीं… हरगिज नही।
सबमे कुछ कमियां है, सब ने कभी ना कभी कुछ ऐसा किया है जो नहीं करना चाहिए था।
आप आज क्या हैं, यह ज्यादा जरूरी है। दस साल पहले क्या थे वह जरूरी नहीं।
मेरे DM आज भी उन संदेशों से भरा है जिन्हे लोगो ने अपने अथाह नफ़रत का इज़हार किया है।
असल जिंदगी में उससे काफी परे हूँ, बहुत कुछ है जो आप मेरे बारे में नहीं जानते... और मैं बताना भी नहीं चाहता, आप मेरे ट्वीट पढ़िए ...काफी है... पसंद आये तो ठीक... नहीं आये तो भी ठीक!”
“मैं अच्छा भी हूँ, मैं बुरा भी हूँ, एक साधारण इंसान हूँ… बस।”
जो लोग मुझसे मिले हैं वो जानते हैं कि मैं बस हँसता रहता हूँ या मुस्कुराता रहता हूँ... मुखौटा है जो हमेशा रहता है।
परन्तु बात तो वही है ना, कुछ तो लोग कहेंगे, अब मैं अपनी सफाई में कुछ नहीं कहता, आखिर में १० में से ५ लोग वाला तथ्य याद रहता है।
कम से कम मैं २५ लोगों के नाम जानता हूँ यहां पर।
उनके ट्वीट्स को पढ़ता हूँ लाइक/rt भी करता हूँ।
और भी कई अनकही बातें लिखी होती हैं उनको पढ़कर मुस्कुरा देता हूँ ... 'रहने दो... अपने आप ही समझेंगे कुछ दिनों में।’
सारांश में इतना कहना चाहूंगा:
●ट्रॉल्स को अनदेखा न करें, उनके कमैंट्स को ब्लोक और रिपोर्ट करें।
●आपकी ख्याति क्षणिक है, इस दो पल की ख़ुशी के लिए अपनी असल ज़िंदगी में खलल ना डालें।
●आपकी जगह कोई भी कभी भी ले सकता है।
●ट्विटर आज भी नम्र और स्वच्छ है अपनी नीतियों और नीतियों के परिपालन के कारण । पालन करें।
लिखते रहिये। :)
अपने अंदाज मे उत्तर को समाप्त करूंगा।
मैंने गलतियां की हैं,
कुछ को सुधारा है,
कुछ आज भी करता हूँ,
कुछ मीठी सी गलतियां बार बार करना पसंद हैं।
आखिर इंसान हूँ, साहब।
धन्यवाद 🙏
✍️ श्री राम
Reactions

Post a comment

0 Comments